10 सर्वश्रेष्ठ ब्रोकर

18.11.2019


वित्तीय बाजारों में लाभ कमाने की संभावनाएं असाधारण हैं—ऐसी कई खबरें दुनियाभर में सुनने को मिलती हैं जिनमें कुछ ही दिनों में साधारण लोग करोड़पति बन जाते हैं। लेकिन हर उस कहानी की शुरुआत सही ब्रोकर के चुनाव से होती है।

ayrex
  • रेटिंग:
  • भाषा: English arabic Hindi Bengali
  • न्यूनतम जमा राशि: 25 $
  • लाभप्रदता: 85%
  • न्यूनतम दांव: 1 $
  • डेमो खाता: ✓
ब्रोकर पर जाएँ
binomo
  • रेटिंग:
  • भाषा: English arabic Hindi
  • न्यूनतम जमा राशि: 10 $
  • लाभप्रदता: 86%
  • न्यूनतम दांव: 1 $
  • डेमो खाता: ✓
ब्रोकर पर जाएँ
finmax
  • रेटिंग:
  • भाषा: English arabic
  • न्यूनतम जमा राशि: 250 $
  • लाभप्रदता: 90%
  • न्यूनतम दांव: 5 $
  • डेमो खाता: ✓
ब्रोकर पर जाएँ
bdswiss
  • रेटिंग:
  • भाषा: English arabic Hindi
  • न्यूनतम जमा राशि: 100 $
  • लाभप्रदता: -
  • न्यूनतम दांव: 5 $
  • डेमो खाता: ✓
ब्रोकर पर जाएँ
iqoption
  • रेटिंग:
  • भाषा: English arabic
  • न्यूनतम जमा राशि: 10 $
  • लाभप्रदता: 95%
  • न्यूनतम दांव: 1 $
  • डेमो खाता: ✓
ब्रोकर पर जाएँ
expert-option
  • रेटिंग:
  • भाषा: English arabic Hindi
  • न्यूनतम जमा राशि: 10 $
  • लाभप्रदता: 85%
  • न्यूनतम दांव: 1 $
  • डेमो खाता: ✓
ब्रोकर पर जाएँ

बाइनरी ऑप्शन के संदर्भ में “अधिकतम रिटर्न” का क्या अर्थ है?

बाइनरी ऑप्शन के ब्रोकर कभी निर्धारित रिटर्न (प्रतिलाभ) और कभी-कभी प्रतिशत आधार पर रिटर्न वितरित करते हैं। अक्सर रिटर्न प्रतिशत आधार पर ही वितरित किए जाते हैं। इसके लिए ब्रोकर आश्वासित रिटर्न को बाजार की गतिविधियों के अनुसार नियमित करते हैं। पारंपरिक डिजिटल ऑप्शन (कॉल, पुट, रेंज और पेअर ऑप्शन) में आमतौर पर रिटर्न 80 से 94% के बीच रहता है, हाई यील्ड (उच्च प्रतिलाभ) टच ऑप्शन में यह रिटर्न कई सौ प्रतिशत तक (असाधारण परिस्थितियों में 1,000% से भी ऊपर) जा सकता है।

बाइनरी ऑप्शन (द्विआधिकारी विकल्प) कैसे कार्य करते हैं?

बाइनरी ऑप्शन कैसे कार्य करते हैं यह बहुत ही आसानी से समझाया जा सकता है, और गैर अनुभवी या नौसिखिए भी इसे जल्दी समझ सकते हैं।


बाइनरी ऑप्शन में ग्राहक यह अंदाज लगाता है कि किसी विशेष परिसंपत्ति का मूल्य चुनी गई ऑप्शन अवधि में बढ़ेगा या घटेगा। अधिकांश ब्रोकर, जिनके जरिए बाइनरी ऑप्शन ट्रेडिंग की जा सकती है, चार प्रकार की परिसंपत्तियां प्रदान करते हैं, जिनमें शेयर, इंडेक्स, विदेशी मुद्रा, बिटकॉइन (क्रिप्टो मुद्रा), और उत्पाद शामिल हैं। उदाहरण के तौर पर, यदि कोई यह अनुमान लगाता है कि आने वाले दिनों में सोने के भाव बढ़ेंगे, तो उसे बस कोई ऐसा बाइनरी ऑप्शन चुनना होता है जहां परिसंपत्ति सोना है, और एक ऑप्शन अवधि चुननी होती है, जैसे कि एक मिनट या एक सप्ताह। निवेशक लाभ तभी कमाता है जब भाव या मूल्य में अपेक्षित बदलाव ऑप्शन की समय समाप्ति पर वास्तव में हुआ हो।

बाइनरी ऑप्शन ट्रेडिंग के लाभ

ग्राहक का अनुमान “सही” निकलने और मूल्य में अनुमानित बदलाव होने की स्थिति में 900 प्रतिशत तक के रिटर्न प्राप्त किए जा सकते हैं। अतः अटकलबाजी करने वालों के पास कुछ हद तक यह मौका होता है कि वे केवल कुछ ही मिनटों में तीन अंकों की प्रतिशत रेंज में ऊंची कमाई कर लें।